3/03/2008

बलात्कारियों के लिंग काट लें तो कैसा रहेगा?

जब भी अखबार में बलात्कार की खबरें पढ़ती हूं तो सोचती हूं कि आखिर ये क्यों किया जाता है? और इसका उत्तर तलाशते तलाशते हजार जवाब और हजार सवाल में आ जाते हैं। क्या कभी वो दिन भी आएगा जब समाज स्त्रियों को इतनी छूट देगा जितनी पुरुषों को और स्त्रियां भी कुंठा के चलते या फ्रस्ट्रेशन के चलते या मौका मिलने के चलते किसी पुरुष का बलात्कार कर लें। मैं किसी तरह की बलात्कार की पक्षधर नहीं हूं लेकिन अब तक बलात्कार विरोधी तमाम कानून बनाये जाने के बाद भी अगर बलात्कार नहीं रुक रहे हैं तो इसका इलाज क्या है?

एक सीधा सच्चा तरीका समझ में आता है। कुछ स्त्रियों को पहल करनी चाहिए कि वो पुरुषों का बलात्कार करना शुरू कर दें और बलात्कार करके उन्हें छोड़ें न, उनके लिंग ही काट लें, ताकि वो फिर पूरी जिंदगी स्त्रियों के दहशत में जिएं। और जब ये घटनाएं अखबारों में छपने लगेंगी तो ढेर सारे पुरुषों की थूक सरक जाएगी और वो किसी भी लड़की या स्त्री से बलात्कार करने के पहले अपनी लिंग की सुरक्षा के बारे में दस बार सोचेंगे। उनके मन में खौफ बैठाना जरूरी है। और इसके लिए यह किसी तरह जरूरी नहीं कि स्त्रियां बलात्कार करके ही खौफ पैदा करें लेकिन कानून बलात्कारियों को फांसी न दे पाने के कारण, और पीड़िताओं को तुरंत न्याय न मिलने के कारण बलात्कार करने वालों का हौसला हमेशा बुलंद रहता है। इसीलिए मुझे एक फिल्म के वो सीन याद आ रहे हैं जिसमें डिंपल कपाड़िया बलात्कारियों से बदला लेने के दौरान उनके लिंग ही काट लेती है। वो फिल्म देखने के बाद पता नहीं क्यों, मेरे मन में हमेशा यह भावना रहती है कि बलात्कारियों को सिर्फ एक ही सजा देनी चाहिए और वह उनका लिेंग काटकर।

आपको मेरा सुझाव बुरा लग सकता है लेकिन आप ही खुद बताइए न कि इस समस्या का व्यावहारिक समाधान क्या हो सकता है?
गंदी

42 comments:

MANISH RAJ said...

SAU FEESDI SAHMAT HUN JI .AISA HONE LAGE TO BALATKAR KI SAMASYA NIRMUL HO JAYEGI.

सिद्धार्थ जोशी said...

पता नहीं आप कैसी लडकी हैं लेकिन जो भाषा और उलझन आपने प्रस्‍तुत की है वह आमतौर पर लडकियों के दिमाग में नहीं आती। हां एक पुरुष के दिमाग में बलात्‍कार की पीडित कन्‍या के लिए ऐसे विचार आ सकते हैं। महोदय आप जो भी हैं मैं नहीं जानता आप कौन हैं
लेकिन जो भी हैं लडकी बनकर कुछ लिखना चाहते हैं तो कृपा कर थोडी बहुत साइकोलॉजी और महिलाओं का उम्‍दा सृजन पढें
इसके बाद ही लिखें तो बेहतर होगा। फिलहाल तो यह फूहड और छिछला महसूस हो रहा है। मैं आगे आपके ब्‍लॉग पर ध्‍यान दूंगा लेकिन उम्‍मीद करता हूं कि आगे आप बेहतर परिणाम देंगे।

Idel said...

This is in devlys 010 Font
esjs er vuqlkj ;fn lekftd Lrj ij dqN mik; fd, tk, rks

1- lekftd lksp es cnyko yk;k tk, %& izR;sd /keZ pkgs oks dksbZ Hkh /keZ gks mles L=h dks iq#"k ds eqdkcys derj le>k tkrk gS A L=h;ks dks fookg ds Ik'pkr fonkbZ ds le; lh[k nh tkrh gS fd pkgs dqN Hkh gks rqEgkjh Mksyh ml ?kj es tk jgh g Svc vFkhZ ds #i es gh ml ?kj ls fudyuk A
cpiu ls gh yM+fd;ks ds cM+s cqtxksZ }kjk lykg nh tkrh gS rqe yM+dh gks ,slk er djks oSlk er djks A yM+dks dks vis{kkd`r vf/kd vktknh nh tkrh gSa tcfd O;ogkj lcds fy, ,d tSlk gksuk pkfg, A vuq'kklu ls Åij dksbZ Hkh u gks pkgs oks yM+dk gks ;k yM+dh A bl Hkkouk dks cnyuk gksxk A yM+ds& yM+fd;ks nksuks dks bl ckr dh le>kb'k nh tkos fd os la;e es jgs e;kZnk es jgs A mudk O;ogkj dSlk gks A orZeku fLFkfr esa vf/kdrj ?kjks es cPpks dks gn ls T;knk vktknh ns nh tkrh gS ftldk ifj.kke xyr gh gksrk gS A ekrk&firk cPpks ds dgs vuqlkj ikWdsV euh dh iwfrZ djrs gS A dsoy mPp f'k{kk fnykdj MkWDVj] bathfu;j] vkfn dkslZ djokdj gh os vius drZO;ks dks iwjk gqvk eku ysrs gS tcfd O;ogkfjd #i ls Hkh cPPkks es uSfrdrk dh f'k{kk nsuh pkfg, A muds ifjokj ds izfr] lekt ds izfr] o Hkfo"; es fookg gksus ij vius thoulkFkh ds izfr D;k O;ogkj gks ;g Hkh ekrk&firk ds }kjk gh fl[kk;k tkuk pkfg, A
blh rkjrE; es ,slk Hkh gksrk gS fd vf/kd vktknh nsus ls Hkh yMfd;ks dks vusdks leL;k,W mRiUu gksrh gS A orZeku ifjos'k es dks&,tqds'ku dk nkSj gS A vkSj yM+ds yM+fd;ks es QzsaMf'ki] MsfVax] vkfn T;knk c<+ jgk gS A
2- yM+ds&yM+fd;ks dk fookg lgh mez es dj fn;k tk, A ftlls dkQh gn rd bl fLFkfr ls cpk tk ldrk gS A
3- ;qodks ds fookg es lcls cM+h #dkoV jkstxkj dh gksrh gS Ajkstxkj dh leqfpr O;oLFkk gks ¼bldk vFkZ ;g ugh gS fd izR;sd O;fDr ljdkjh ukSdjh djs ;k izR;sd O;fDr MkDVj ;k bathfu;j cus] og bruk etcwr dks viuh vthfodk pyk ys½
4- cqtxksZ dks tks Hkh jk; ysuk gks mles 'kq# ls gh cPpks dk er Hkh ys ftlls mu cPpks es ftEesnkjh dk ,glkl gks A os ml fu.kZ; ds fy, lksps vkSj vkiuh ftEessnkjh le>s A
5- ifjokj dh eku e;kZnk] lekftd nk;jks vkfn es vuq'kklu cuk jgs A ;fn dksbZ vuq'kklughurk djrk gS rks I;kj ls le>k dj mls vuq'kkflr fd;k tkos A

somusagar said...

bilkul sahi farmaya hai aap ne.balatkaree ka lund kaat liya jay, yeh baat janchi nahin,ek purush ko apna lund utna hi pyara hota hai jitna ki ek maa ke aulad.

डॉ० कुमारेन्द्र सिंह सेंगर said...

कितना सही कहा आपने, हर बार ख़बर उड़ती है कि बलात्कारियों को मौत की सजा मिलनी चाहिए. नहीं ये नहीं होना चाहिए, इससे बलात्कारी को नहीं उसके परिवार को सजा मिलेगी. बलात्कारी का लिंग काट दिया जाए साथ ही समूचे समाज में इस बात को बताया भी जन चाहिए. शायद यह समस्या कुछ इसी तरह सुधरे?

lion said...

main is baat se sahmat nahi hoon,, pahle zaroori hai ki BALAATKAR ki paribhasa pe aap gaur karen. kyonki keval kisi ko zismaani taur pe pareshaan karna hi Balaatkaar nahi hota hai. iske liye logon ko sanskaar ka paath padana hoga. saath he victim ko poice se madad mile aur use insaaf jald mile to is pe kaaboo paya ja sakta hai..waise forcely karaye jaane wala koi bhi kaam BALAATKAAR ki shreni mai aata hai, is tarah to phir dimag,dil, zubaan aur na jaane kya-kya halaak karne honge..

Arun don't forgatble said...

Aapka kahana kahi tak sahi hai par jara ye bhi sochiye ki balatkar ke karan kya hai god ne jab purush aur stri ko banaya to usne stri ko purush ki bajay kuch jayada hi de diya par sath me sanskar bhi diye the kintu aaj hum un sansakaro ko bhool kar sirf jo diya hai us par gour karte hai

agar vastab me hume in ghatnao ko rokana hai to us samaj ko vapas lana hoga un sanskaro ko vapas lana hoga kisi ki pukar sun kar vaha par vakt par pahuchana hoga apne bachcho ko in gande gande kapade pahanane se rokana hoga agar ham log sabhya bane aur is dikhavti pan se bache to apne aap hi na kamukta paida hogi aur na hi koi balatkar lekin fir bhi agar koi jurrat karta hai is rachsi kam ko karne ki to uska ling katna hi sabse behtar hoga

Manoj Sangwan said...

aapka kahna kafi had tac sahi h.m janta hu ki aap jo kah rehi h vo practical nahi h or ye app bhi janati h but ye bhi sahi h ki ager aap kisi ko simple bhasa me usski galti bateye to vo usse nahi manata aapka tareka vastav me acha h. mujhe sach me aapka blog pasned aaya or is bat me ki balatkar ke doshi to kadi se kadi saja miloni chaiye m appka puri tereh se smerthan kerta hu.

राकेश जैन--राजदर्शन said...

behatar he aap is bare me osho ke vichar padhe . ye mulat mahilao ko purusho ki juti saamjhne vali mansikata or sex par lage partibandho ke karan he . inme sudhar hogaa to balatkaar ki ghatnao me apne aap hi kami aayegi

रजनीश said...

बहिन जी, बहुत बलात्कारी लड़कियां सीना खोलकर सड़क पर घूम रही हैं, उनका क्या काटा जायेगा ?

rajesh said...

rajneesh jee aap ke pass dant hai na mauka milne per aap awasya prayog kare /

Anonymous said...

DR RAMESH C SHARMA GUNA-[SOCIALIST]---------- JHAKJORNE BALA METTER THIK HI HOGA BALLATKARIRIYO KI SAJA YAHI KANOON KO SOCHNE PER MAJBOOR KAREGA AKHIR KAB TA BALLATKAR SAHEGI KANNYA Yunki bachv ka sahi mantra diya sabaaaaaaaaaash.GANDI LANDKI NAAM BHIRMIT KAR DIYA?

indianrj said...

Bilkul sahi sazaa hogi. Peedeet ladki har pal til til kar marti hai. Uska Balaatkar sirf ek baar nahin hota, balki anginat baar wo ye zillat mehsoos karti hai.

Anonymous said...

balatkariyon ko kaisi sajaa mile, is subject par tamaam mahanubhaon ke bichar padhe. bicharon ko padh kar logon ki soch, sanskar aur vidwataa par taras aata hai. jyada achha hoga ki hum jo kanoon banaa hai usi ka sakhti se palan karayen. aap swayam sochen ki aap ka koyi kareebi yadi balaatkar kar baithe to aap bar-bar schen ki kya aap madad nahi karenge? kareebi hone ke bawjood yadi aap uski madad na karen to aap kanoon ka sathh denge aur aisi ghatnaon par viram lagega. suresh mishra

Anonymous said...

mohtarma,
aapne sahi farmaya, lekin balatkar ke 90 parsent mamle jhoote hote hain. jo kort main bayan paltne ke bad khatam ho jate hain, us samay bo balatkar ki sikar kamjor tabke ki mahilain paise le letin hain aur ranjisan kisi ke kahne par mamle lagba detinl hain. kya ye theek hai, balatkar sahi hai ya galat iski pusti kaise ho aur yadi kes daraj hone ke bad bayan palte gaye to un mahilan ke liya aap kya saja dengin. balatkari ka ling kata jana chahiye, lekin jhode mamle daraj karbane bali mahilaon ka aap ki najar main kya hona chahiye

brajesh tomar

Anonymous said...

mohtarma,
aapne sahi farmaya, lekin balatkar ke 90 parsent mamle jhoote hote hain. jo kort main bayan paltne ke bad khatam ho jate hain, us samay bo balatkar ki sikar kamjor tabke ki mahilain paise le letin hain aur ranjisan kisi ke kahne par mamle lagba detinl hain. kya ye theek hai, balatkar sahi hai ya galat iski pusti kaise ho aur yadi kes daraj hone ke bad bayan palte gaye to un mahilan ke liya aap kya saja dengin. balatkari ka ling kata jana chahiye, lekin jhode mamle daraj karbane bali mahilaon ka aap ki najar main kya hona chahiye

brajesh tomar

Shoaib said...

balatkarion ko beshak sakht se sakht saza milni chahie...lekin mahilaon ko purushon ka balatkar krne ki salah dekr, aap bhi unhi vic-chipt balatkarion ki shreni me khadi hoti hain...kya sare purush balatkari hain...aap bimari ka ilaj bimari bata rahi hain...jisse koi natija nahi niklega...apne zehan ko kholie...sarthak sochie aur sarthak likhne ki koshish karie...main apki bhavna aur dard ko samajh sakta hun...lekin apke sujhae upayon k aadhar par, apko support nai kr skta..

आदर्श राठौर said...

ये गंदी लड़की एक दम बच्ची है....
मासूमियत भरी बातें हैं लेकिन नज़रअंदाज़ किए जाने योग्य बिल्कुल नहीं...

अनिल कान्त : said...

main bhi yahi sochta hoon jo bhi range haanthon ya jo iski shikar ho wo aisa bilkul kare.....tabhi aise kutte sudhrenge

Anonymous said...

me bhi yahi sochta hoon jo bhi range haathon ya jo iski shikar ho wo aisa bilkul kare tabhi aise harami sudhrenge kyonki perit ladki pal til til kar marti hai. uska balaatkar srif ek bar nahi hota, balki wo zindgi bhar ye zillat mehsus karti hai .

plz send me ur response at me E-mail id
ashisharyal786@gmail.com.
i m waiting 4 ur response

Ganesh Prasad said...

हेल्लो बीमार लड़की,

मेरे ख्याल से तू अपने इलाज करवा, या फिर ओपन होकर एक नंगा नाच कर बिच चौराहे पर, और अपनी जमात को बड़ा कर
या फिर एक दिन अपने पापा से अकेले में मिल और उनसे प्यार से पूछ पापा आपने क्यों मुझे ऐसा बना दिया...

मुन्नी, तुझे किलोमीटर में कितने मीटर होते है पता है, लम्बाई, चौडाई क्या होती है पता.. है ??. सायद नहीं... तो एक काम कर और गूगल के हेल्प से दुनिया का पता कर कितनी बड़ी है दुनिया... कुए की चुद्दकर मेंढकनि... कुए से बहार निकल और देख दुनिया बहुत बड़ी है.... दुनिया में सिर्फ वोही लोग नहीं है जिन्होंने तुझे ऐसा बनाया ! पान के दुकान के पास खड़े तीन लडके के अलावा तू सच सच बता उस दिन कितने लडके तेरे आस पास से गुजरे होंगे... सायद अगर तू १० किलोमीटर का भी सफ़र तय की होगी तो 10x10 = 100 लडके इसका मतलब 100-3 = 97 लडके तो ठीक है न? क्योंकी तेरी ही आपबीती है और तुने ही सिर्फ तीन लड़को का जिक्र किया है...

सबका लंड ही काट देगी तो फिर तेरी जैसीयो का सेक्स का भूख कौन मिटाएगा और फिर तेरी जैसी जमात कहा से पैदा होगी... सच सच बता ... ब्लू फिल्म तो तू जरुर देखती होग १००% देखती ही होगी, बिलकुल ठीक कोई बुराई नहीं है ब्लू फिल्म देखने में खूब देख अगर मन मने तो पर एक बात सच सच बोलना फिल्मे देखते हुए क्या तू भी कोई तगडा लं*** लेने का नहीं सोचती होगी..??. तो फिर लंड कटाने का ख्याल... हा बलात्कार करने को सजा देने की लिए उनको बिच चौहरे पर खडा कर उनको भी जिन्दा जला देने का होना चाहिए...

और हा जहा तू हॉस्टल में रहती है.. वहा की लड़कियों को लड़की ही बना रहने दे... उनको जीनत अमन और गन्दी लड़की न बनाना... उनके पापा, उनके भाई, उनके चाचा, सायद उनकी मम्मी तेरे अपनो जैसी नहीं होगी....तुझे गटर की और सड कर जीने की जिंदगी मुबारक... दूसरो को जीने की कला सिखा... क्योंकी प्रकृति के भी अपने कुछ अनुपात है.... और अपने कुछ नियम है..... और .... हम उसके पूरक.... फूल और माली .....

स्वच्छ संदेश: हिन्दोस्तान की आवाज़ said...

बलात्कारियों को मौत की सज़ा !
Monday, April 13, 2009



इस्लामी क़ानून में बलात्कार की सज़ा मौत है

बहुत से लोग इसे निर्दयता कह कर इस दंड पर आश्चर्य प्रकट करते हैं| कुछ का तो कहना है कि इस्लाम एक जंगली धर्म है | मैंने उन जैसे कई व्यक्तियों से एक सवाल पूछा था - सीधा और सरल | कोई आपकी माँ या बहन के साथ बलात्कार करता है और आपको न्यायधीश बना दिया जाये और बलात्कारी को सामने लाया जाये तो उस दोषी को आप कौन सी सज़ा सुनाएँगे ? मुझे प्रत्येक से एक ही जवाब सुनने को मिला- उसे मृत्यु दंड दिया जाये | कुछ ने कहा कि उसे कष्ट दे दे कर मारना चाहिए | मेरा अगला प्रश्न था अगर कोई व्यक्ति आपकी माँ, पत्नी अथवा बहन के साथ बलात्कार करता है तो आप उसे मृत्यु दंड देना चाहते हैं लेकिन यही घटना किसी और कि माँ, पत्नी या बहन के साथ होती है तो आप कहते हैं मृत्युदंड देना जंगलीपन है| इस स्तिथि में यह दोहरा मापदंड क्यूँ?


पश्चिमी समाज औरतों को ऊपर उठाने का झूठा दावा करता है
औरतों की आज़ादी का पश्चिमी दावा एक ढोंग है, जिनके सहारे वो उनके शरीर का शोषण करते हैं, उनकी आत्मा को गंदा करते हैं और उनके मान सम्मान को उनसे वंचित रखते हैं | पश्चिमी समाज दावा करता है की उसने औरतों को ऊपर उठाया | इसके विपरीत उन्होंने उनको रखैल और समाज की तितलियों का स्थान दिया है, जो केवल जिस्मफरोशियों और काम इच्छुओं के हांथों का एक खिलौना है जो कला और संस्कृति के रंग बिरंगे परदे के पीछे छिपे हुए हैं |


अमेरिका में बलात्कार की दर सबसे ज़्यादा है

अमेरिका को दुनियाँ का सबसे उन्नत देश समझा जाता है| सन 1990 ई. की FBI रिपोर्ट से पता चलता है कि अमेरिका में उस साल 1,02555 बलात्कार की घटनाएँ दर्ज की गयी | रिपोर्ट में यह बात भी बताई गयी है कि इस तरह की कुल घटनाओं में से केवल 16 प्रतिशत ही प्रकाश में आ पाई हैं | इस प्रकार 1990 ई. की बलात्कार की घटना का सही अंदाज़ा लगाने के लिए उपरोक्त संख्या को 6.25 गुना करके जो योग सामने आता है वह है 6,40,968 | इस पूरी संख्या को 365 दिनों में बनता जाये तो प्रतिदिन के लिहाज से 1756 संख्या सामने आती है |

एक दूसरी रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका में प्रतिदिन 1900 घटनाएँ पेश आती हैं|

Nationl Crime Victimization Survey Bureau of Justice Statistics (U.S. of Justice) के अनुसार 1996 में 3,07000 घटनाएँ दर्ज हुईं| लेकिन सही घटनाओं की केवल 31 प्रतिशत ही घटनाएँ दर्ज हुईं | इस प्रकार 3,07000x 3,226 = 9,90,322 बलात्कार की घटनाएँ सन 1996 में हुईं| ज़रा विचार करें हर 32 सेकंड में एक बलात्कार होता है|

ऐसा लगता है कि अमेरिकी बलात्कारी बड़े निडर है|

FBI की 1990 की रिपोर्ट यह बताती है कि बलात्कार की घटनाओं में केवल 10 प्रतिशत बलात्कारी ही गिरफ्तार किया जा सके हैं जो कुल संख्या का 1.6 प्रतिशत है| बलात्कारियों में से 50 प्रतिशत को मुकदमें से पहले ही रिहा कर दिया गया| इसका मतलब यह हुआ कि केवल 0.8 प्रतिशत बलात्कारियों के विरुद्ध ही मुकदमा चलाया जा सका |

दुसरे शब्दों में अगर एक व्यक्ति 125 बार बलात्कार की घटनाओं में लिप्त हो तो केवल एक बार ही उसे सज़ा दी जाने की संभावना हैं| बहुत से लोग इसे अच्छा जुआ समझेंगे | रिपोर्ट से यह भी अंदाज़ा होता है की सज़ा दिए जाने वालों में से केवल 50 प्रतिशत लोगों को एक साल से कम की सज़ा दी गयी है| हालाँकि अमेरिकी कानून के मुताबिक सात साल की सज़ा होनी चाहिए| उन लोगों के सम्बन्ध में जो पहली बार सज़ा के दोषी पाए जातें हैं, जज़ नरम पद जाते हैं|

ज़रा विचार करें एक व्यक्ति 125 बार बलात्कार करता है लेकिन उसके विरुद्ध मुकदमा चलने का अवसर केवल एक बार ही आता है और फिर पचास प्रतिशत लोगों को जज़ की नरमी का फायेदा मिल जाता है और एक साल से भी कम मुद्दत की सज़ा किसी ऐसे बलात्कारी को मिल पाती है जिस पर यह अपराध सिद्ध हो चूका हो|


बलात्कार की सज़ा मौत: लाल कृष्ण आडवानी

हालाँकि मैं श्री लाल कृष्ण आडवानी जी की अन्य नीतियों और विचार से बिलकुल भी सहमत नहीं हूँ लेकिन मैं सहमत हूँ लाल कृष्ण आडवानी के इस विचार से कि बलात्कारियों को सज़ा-ए-मौत देनी चाहिए | उन्होंने यह मांग उठाई थी कि बलात्कारी को मृत्युदंड दिया जाना चाहिए| सम्बंधित खबर पढें...



इस्लामी कानून निश्चित रूप से बलात्कार की दर घटाएगा
स्वाभाविक रूप से ज्यों ही इस्लामिक कानून लागू किया जायेगा तो इसका परिणाम निश्चित रूप से सकारात्मक होगा | अगर इस्लामिक कानून संसार के किसी भी हिस्से में लागू किया जाये चाहे अमेरिका हो या यूरोप, ऑस्ट्रेलिया हो या भारत, समाज में शांति आएगी |

सलीम खान
संरक्षक
स्वच्छ सन्देश: हिन्दोस्तान की आवाज़
लखनऊ व पीलीभीत, उत्तर प्रदेश

Niraj said...

App jo koi bhi hai mai aapki bhawnao ki kadar karta hoon. mai aapke vichar se poori tarah se santust hoo. mere hisaab se in balatkarion ke ling katkar aur sadko par dodakar ankounter kar dena chahiye. tabhi logo ko balatkar karne ke prati khouf paida hoga. lekin hamare desh ka kanoon bahut hi saral hai aur aisa nahi hone dega. lekin hame koi kathor kadam jaroor uthana hoga.

rafeek said...

dimple kapadia ki uss film ka naa to bataa dete......

Anonymous said...

sabhi pratikriyane padhane par ganesh prasadji ka lekh bahut ghatia darje kee bhasha me likha gaya hai. Unhe sochna chahiye ki ise unse kharab log bhi dekhte hain.

ARVIND SINGH said...

yes i agree with you, but not onle responciable man in rape. because i tryed a rape but i,don't her repe,

Anonymous said...

प्रिय गंदी लड़की.....
कैसी हो ....देखो बच्ची तुम गजब सोचती हो....तुम जैसा तो किसी लड़की ने आज तक सोचा भी नहीं होगा...तुम तो इन मादरचौदों का लिंग काटो अभियान जारी रखो....सबसे पहले अपने पिता का लिंग काटो .....फिर अपने भाई का ....फिर जीजा का ....अगर सगा जीजा नहीं है तो अपनी सहेली के जीजा का ही काट डालो....लेकिन काटो जरूर...लिंग काटने का मजा ही कुछ और है...इसे भी दिल ना भरे तो अपने सर का काटो ....फिर पड़ौसी का ....फिर पड़ौसी के पड़ौसी का..फिर अपने मुहल्ले के जितने भी मर्द है सभी को एक सामुहिक भोज में बुलाओ औऱ सबका काट डालो.....जिओ कन्या जिओ ...क्या अभियान शुरू किया है ...

shiva jat said...

ऐ बुद्धिमन लङकी समस्या अच्छी है लेकिन मेरी जान इसमें ज्यादा दोष महिलाओं का ही है क्यों ऐसे बच्चे पैदा करती है क्यों उन्हे अच्छे संस्कार नही दाती क्यों उनको कामुक बनाती हो कहते हैं बच्चा जब गर्भ में होता तो मां जैसा सोचता है बच्चा भी ऐसा ही होता है तो सबसे बङी गलती महिलां की है आप मेरे ब्लोग पर जबाब लिखना या मेल करने प्लीज

Nitin Prakash Nama said...

yah sujhav 1dam sahi hai my name is nitin prakash nama (VICKY NAMA) my E mail ID is namanitin@gmail.com

rohitansh said...

very Good

rohitansh said...

Beautifull

rohitansh said...

YA H SUJHAV I DFDHGKLDFG DFDL;FJDL;GJJGKLDFJDFKLG FL;SDJGL;DFJJKLWERGFVKLCVNL KLEFGH TJERKL RFVNDFKLGFNERLNFKLSDFGNDKL FWEL;DFJKL KLDNMWEKL FWEF;

Gujju Girl said...

ye galat hai.
ek to bichaara apane lund se hamaarei chut ke aag shant kare aur ham us lund ko hi kaat dale. na na na

Anonymous said...

aapni chut mujhe do phir mera ling kat lena saali randi pagal hai..........

alok said...

ye saja tabhi de jab do sau pratishat saabit ho jaaye ki balaatkaar usi ne kiya hai

manish kumar said...

Main Agar Bharat ka Sattadhish hota to ye pahla kam karta tha.

priyanka pawar said...

@ गणेश प्रसाद
अगर आपको इशवर ने आपको दे आंखें दी है तो आर्टिकल दुबारा से पढ़....यहां पर बात दुष्कर्मियों की हुई है ना कि तेरे 97% लोगो की...इन 97% में हमारे बाप भाई भी आते है...और शायद तू भी आता होगा...पर बात यहां पर बलातकारियों की है तेरी नही जो इतना फट रहा है...रही बात उन लड़कियो की जिनके बारे में हू कह रहा है सड़क पर....सीना.....चलती है तो इनके बारे में तू खुद सोच और इस लड़की ने तो समाज में जो दुष्क्रम हो रहे है उन्ही के बारे में कहा है...सोच तेरी गलत है कि तू इसे अपने पर ले रहा है....उसके गालियां देने से पहले ये सोच ले कि बलातकारी है या नही...?????? फिर गईयो ये वाला गाना...................by one another girl....

Bahudur Sisodiya said...

wright

Amartya Sinha said...

Ganesh Prasad. It seems that you are a psychologically disbalanced person. I am sure that you need some treatment in a mental hospital? Have you read the entire article? Or are you illiterate? The writer has stated her opinion in a democratic manner. And why are you pulling Zeenat Aman into the debate. Moreover as per my opinion, death punishment is the only way to tackle rape. But your personal attack on the writer is deplorable. In fact, I believe that you should ask your prostitute mother and your maniac father...that why did they give birth to you. Get lost motherfucker asshole.

raja khan said...

gandi larki

afwah yahee hai ke mard hi balatkar karte hain chahe zabardasti bahlaphusla kar ya shaddi ka wada kar ke.Par ye sahee nahee hai.saari duniyan me agar larkiyon ya auraton pa mardon dawara balatkar ki ghatnaan hoti hain usse zayada aurton dawara mardon ki balatkar ki ghatna hoti hain.Kabhi chote larkon ko aurten bahla phusla kar apnee badan ki aag bujha tee hon ya black mail kar ke.Hota to ye bhee balatkaar hai.Bhale hi maradd ya larke sharam or jhijak ke karan apnee bate kaheen na kah pate hai ya kisi aurat par ilzam nahee laga pate hai waisi videsho me auraton pe bhee balatkaar ke mukadme chalte hain or kai maamle me auratoon ko saza bhee huee hai.LEKIN JITNE BHEE MAHILA SAGHATAN HAI UNHE SABSE ZAYADA TAKLIF MARDOON SE HI HAI.EK KISI SAGHATAN KI LADY KAVITA KRISHNAN NAAM KI EK MAHILA NE APNE EK ENTARVIEW ME EK FISLA SUNAYA KI BALATKAAR SIRF MARD HI KAR SAKTA HAI.PARI LIKHI MAHILA KO SAYAD YE HI NAHEE PATA KI BALATKAAR KAHTE KISE HAIN.JITNEE BHEE BALATKAAR KI GHATNAAE HAI USKEE UPAJ UN MAHILAOON DAWARA HOTI HAI JO APNE RISTEE KE DEVAR BHATIJA MUSERE BHAI NOUKAR AADI LARKON MARDON KO APNI KAAM ITCHAON KO PURI KARNE KO APNE SEX KE JAAL ME PHASATE HAIN.OR UNKO AURTON-LARKIYON KE BARE ME GANDI BATE BATA TE HAIN BAHLA PHUSLA KAR UNKA BALATKAR KARTEE HAIN AUR UNHE AURTON-LARKIYON KE PARTEE USKATEE HAIN.UN ME SE KUTCH AYSE GHATNA KO ANJAM DETE HAIN JO NONDNIYE HAI.

MARD ZINDABAD

Sattu Jatav said...

रेप के झूठे केस से पुरुष कैसे बच सकते है और क्या कर सकते है और उसके क्या अधिकार है:


रेप के झूठे केस से पुरुष कैसे बच सकते है और क्या कर सकते है और उसके क्या अधिकार है:

सीख नंबर एक : किन परिस्थितियो में है सबसे ज्यादा जोख़िम

Ø उस युवती या महिला से संबंध न रखे जोकि शादीशुदा हो या तलाक़शुदा हो या पति से अलग हो या किसी की प्रेमिका हो या अकेली रहती हो |
Ø उस युवती या महिला से संबंध न रखे जो नाबालिग हो |
Ø उस युवती या महिला से संबंध न रखे जो अपने परिवार के दवाब में हो |
Ø उस युवती या महिला से संबंध न रखे जो मादक पदार्थो का सेवन करती हो |
Ø उस युवती या महिला से संबंध न रखे जिसके काफी पुरुष मित्र हो |
Ø उस युवती या महिला से संबंध न रखे जो उम्र में काफी छोटी हो |
Ø उस युवती या महिला से संबंध न रखे जो उम्र में काफी बड़ी हो |
Ø कभी भी अकेली युवती या महिला को कमरा किराए पर न दे और न ले |
Ø कभी भी अकेली युवती या महिला को ट्यूशन न पढ़ाए और न ही पढ़े |
Ø कभी भी अकेली युवती या महिला को लिफ्ट न दे और न ले |

सीख नंबर दो : झूठे रेप केस क्या होते है |

समान्यतः कोई भी पुरुष बिना किसी महिला की सहमति के सेक्स नहीं कर सकता। पर कभी कभी महिला अपनी स्वार्थ सिद्धि के लिए या पकड़े जाने पर या पकड़े जाने के डर या पैसो के लिए या संपति हथियाने के लिए सहमति के सेक्स को झूठे रेप केस बना देती है।

सीख नंबर तीन : उदाहरण के लिए

शादी न करो तो झांसा देकर रेप कई सालो से रेप या नौकरी दो तो रेप न दो तो रेप या प्रमोशन दो तो रेप न दो तो रेप या चलती गाड़ी मे रेप या बात मानो तो रेप न मानो तो रेप या कम नंबर दो तो रेप या छुट्टी न दो तो रेप आदि। आज समाज मे हर पुरुष को बलात्कारी की नज़र से देखा जा रहा है। महिलाओ के सशक्तिकर्ण और उत्थान के नाम पर जो एकतरफा कानून बनाए जा रहे है उनसे समाज मे लिंग लड़ाई छिड़ गई है उनसे महिलाओ का भला नहीं हो रहा बल्कि पुरुषो का शोषण हो रहा हे और उनको हीन भावना से देखा जा रहा है।





सीख नंबर चार : नए रेप लॉं के नुकसान

महिला को सिर्फ कहना है चाहे झूठ हो या सच (भारतीय साक्ष्य अधिनियम की धारा 114अ के अनुसार) कोई भी पुरुष पकड़ा जा सकता है और उसको जेल हो सकती है। और एक पत्नी भी इस कानून का इस्तेमाल कर सकती है। और इसी वजह से आजकल झूठे रेप केस मे काफी बड़े बड़े लोग फँस रहे है जैसे जज या नेता या नौकरशाह या डॉक्टर या पुलिस या फिल्मी हस्तियाँ या मालिक या शिक्षक या विध्यार्थी या दोस्त या जानकार या अपने ही रिश्तेदार या पति या प्रेमी आदि।

सीख नंबर पाँच : कमेटी की रिपोर्ट क्या कहती है

किसी भी महिला को बिना उसकी मर्जी के (घुरना या देखना या छूना या पकड़ना या छेड़ना या पीछा करना या दोस्ती का प्रस्ताव रखना या प्रेम करना या पीछा करना या शारीरिक संबंध बनाना) आदि सब बलात्कार की श्रेणी मे आते है। जोकि अब एक नया रेप लॉं बन गया है। कृपया इन धाराओ पर गौर करे : IPC 326 / 326a / 326b / 354/ 354a / 354b / 354c / 354d / 375 / 376 / 376a / 376b / 376c / 376d / 376e/ 377 / The Sexual Harassment of Women at Workplace (Prevention, Prohibition and Redressal) Act, 2013.


सीख नंबर छः : पुरुष के अधिकार

http://sattujatav.blogspot.in/2014/05/counter-cases.html


(Suggestions and Deletions and Additions are most welcome)


Sattu Jatav
9953935838

www.facebook.com/mydearsattu

http://sattujatav.blogspot.in/

https://plus.google.com/+SattuJatav/

https://twitter.com/mydearsattu

Unknown said...

Ase to sab ladki asa karegi to bad ladki ko chudane man me ayegi to vo kis chudaigi dog se